अमेरिका में सड़काें पर चहल-पहल लाैट आई है। यहां तक कि बार, रेस्तरां और जिम भी खुल गए हैं। वजह है देश में 32% आबादी को अब तक वैक्सीन लग चुकी है। इसके बावजूद यहां वैक्सीन अभियान में तेजी लाने के निर्देश दिए गए हैं। अलग- अलग राज्यों में सरकारें और निजी कंपनियां अपने कर्मचारियों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्राेत्साहित कर रही हैं।

मैरीलैंड में सरकार कर्मचारियाें काे 100 डाॅलर यानी 7500 रुपए दे रही हैं, वहीं डेट्रायट में फ्री राइड के साथ 50 डॉलर यानी 3750 रुपए का भुगतान किया जा रहा है। न्यूजर्सी में एक डोज के बदले एक बीयर केन और मिशिगन में तो मारिजुआना यानी गांजा भी फ्री में दिया जा रहा है। मैरीलैंड के गवर्नर लॉरेंस जोसेफ हॉगन ने कहा कि हमारा लक्ष्य 100 फीसदी टीकाकरण में देश में अव्वल रहने का है। इसके लिए हमने हर स्तर पर पहल की है। यहां तक कि जो सेंटर पर नहीं आ पा रहे उनके लिए भी मौके पर वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित करवा रहे हैं। ये बिल्कुल सुरक्षित और मुफ्त है।

ओहियो में भी लोगों को वैक्सीन के लिए बीयर का ऑफर दिया जा रहा है। मिशिगन में तो कई कंपनियां मारिजुआना यानी गांजा तक दे रही हैं। इतना ही नहीं, यहां कई कंपनियां टीका लगवाने पर दो दिन की छुटि्टयां भी दे रही हैं। कंपनियों को भी यहां 100 फीसदी कर्मचारियों को टीका लगवाने पर टैक्स में छूट और सुरक्षा प्रमाण पत्र दे रही हैं। फ्लोरिडा और कैलिफोर्निया में कई कंपनियां इसके लिए बोनस भी देने की घोषणा कर चुकी है।

लालच के बदले प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का मैसेज देना होगा
इधर, न्यूयाॅर्क यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर आर्थर कैपलन इस तरह के इंसेटिव प्रोग्राम पर कहते हैं कि लोगों को 100 डॉलर का लालच देने के बदले हमें लोगों को यह समझाना चाहिए कि क्यों उन्हें अपनी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की जरूरत है, ताकि भविष्य में वे आने वाली पीढ़ी को मैसेज दे सकें। लालच के रूप में नकद, बीयर या गांजे जैसा नशा और फ्री राइड देकर हमें अपने कर्तव्यों का यहीं खत्म नहीं करना चाहिए। इससे लोगों की प्रतिरोधक क्षमता नहीं बढ़ेगी।